जापान में भूकम्प के बाद सुनामी का कहर

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

टोक्यो।। पूर्वोत्तर जापान में 8.9 की तीव्रता वाले जबर्दस्त भूकंप के बाद सूनामी के चलते काफी नुकसान हुआ है। भूकंप के चलते जहां कई मकानों में आग लग गई , वही सूनामी की लहरें तटीय इलाकों में कई मकानों , कारों और पोतों को अपने साथ बहा कर ले गईं। फिलिपींस , इंडोनेशिया और रूस समेत 10 देशों में सूनामी की चेतावनी जारी की गई है। भारत सरकार ने कहा कि उसके तटीय इलाकों में कोई खतरा नहीं है। इस बीच खबर है कि भूकंप के चलते जापान के एक न्यूक्लियर रिऐक्टर में भी आग लग गई है। 100 यात्रियों वाले एक जहाज के बह जाने की भी खबर है।

बताया जा रहा है कि पिछले 11 5 सालों में जापान में यह सबसे शक्तिशाली भूकंप है। भूकंप के चलते 60 लोगों के मरने की बात कही गई है। इसमें एक बुजुर्ग पुरुष और महिला की मकान के मलबे के नीचे दबने से मौत हो गई। आपदा की घड़ी में आकड़े जमा करने के लिए जिम्मेदार नैशनल पॉलिसी एजेंसी का कहना है कि पूरे देशभर में हताहत हुए लोगों की संख्या उसके पास अभी नहीं है। अधिकारी ने कहा कि त्रासदी इतनी बड़ी है और आंकड़े जुटाने में काफी समय लगेंगे। सूत्रों के मुताबिक मरने वालों की संख्या काफी बढ़ सकती है। 100 यात्रियों वाले एक जहाज के बह जाने की खबर भी मिली है। हालांकि आधिकारिक तौर पर इसकी अभी तक पुष्टि नहीं हो सकी है।

भूकंप रात दो बजकर 46 मिनट पर आया , जिसके बाद कई तगड़े झटके आए। अमेरिकी भूगर्भ सर्वे ने भूकंप की तीव्रता 8.9 बताई , जबकि जापान के मौसम विज्ञान विभाग ने इसे 7.9 मापा। भूकंप के बाद मौसम विज्ञान विभाग ने जापान के पूरे प्रशांत महासागर के तट के लिए सूनामी की चेतावनी जारी की। सरकारी मीडिया एनएचके ने चेतावनी दी कि तट के नजदीक रहने वाले लोग सुरक्षित इलाकों की ओर चले जाएं। हवाई में पैसिफिक सूनामी वॉर्निंग सेंटर ने कहा कि जापान , रूस , मार्क्स आईलैंड और उत्तरी मारियाना के लिए सूनामी की चेतावनी जारी की गई है। गुआम , ताइवान , फिलिपींस , इंडोनेशिया और अमेरिकी राज्य हवाई को सुनामी पर नजर रखने को कहा गया है।

मौसम विभाग ने कहा कि पूर्वी तट से करीब 125 किलोमीटर की दूरी पर 10 किलोमीटर की गहराई में भूकंप के झटके आए। यह इलाका टोक्यो से 380 किलोमीटर उत्तर – पूर्व में है। टोक्यो में बड़ी संख्या में इमारतें हिलने लगी और सुरक्षा के लिए लोग सड़कों पर निकल आए। टीवी फुटेज में दिखाया गया है कि एक बड़ी इमारत में आग लगी हुई है और ओदैबा जिले में घरों से धुंआ निकल रहा है। भूकंप आने के आधे घंटे बाद भी टोक्यो की बड़ी इमारतें हिलती रहीं और मोबाइल नेटवर्क ने काम करना बंद कर दिया।

एनएचके के फुटेज में दिखाया गया है कि सेनडई स्थित उसके ऑफिस में कर्मचारी लुढ़क रहे हैं और किताब व अखबार मेजों से टकरा रहे हैं। सेंट्रल टोक्यो में रेलगाडि़यों को रोक दिया गया और लोग पटरियों के किनारे – किनारे चलते नजर आए। एनएचके ने कहा कि टोक्यो में एक बड़े हॉल कुदान कैकान की छत ढह गई , जिसमें कई लोग घायल हो गए। इस इलाके में पिछले कुछ समय में कई भूकंप आए , जिसमें बुधवार को आए 7.3 की तीव्रता वाला भूकंप भी शामिल है।

भूकंप के केंद्र के पास समुदी तट पर आए सूनामी में कई मकान बह गए। टोक्यो से लोगों के घायल होने की भी खबर है। टीवी फुटेज में दिखाया गया है कि जापान के तटीय इलाकों में काफी क्षति हुई है और पानी में दर्जनों कारें , नाव और यहां तक कि मकान भी बह गए। एनएचके के फुटेज के मुताबिक सुनामी में एक बड़ा पोत बह गया। अधिकारी भूकंप के कारण हुई क्षति के अलावा घायलों और मृतकों की संख्या का पता लगा रहे हैं लेकिन फिलहाल उनके पास विस्तृत जानकारी नहीं है।

जापानी प्रधानमंत्री ने शुरूआती बयान में कहा कि जापान की पांचो परमाणु इकाइयां अपने आप बंद हो गईं और कहीं रेडिएशन की कोई खबर या आशंका नहीं है। लेकिन, गैरसरकारी सूचनाओं के मुताबिक एक परमाणु इकाई में आग लगने की खबर है। उत्तर पूर्वी जापान की एक यूटिलिटी कंपनी ने सूचना दी है कि एक न्यूक्लिअर पावर प्लांट की एक टरबाइन बिल्डिंग में आग लगी है। आग पर काबू पाने की कोशिशें सफल नहीं हो पा रही हैं।

Posted on Mar 11th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  बड़ी खबर     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी