10 लाख में पायलट का लाइसेंस

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन (डीजीसीए) ने फर्जी मार्कशीट के आधार पर लाइसेंस पाने वाले चार पायलटों का पता लगने के बाद बड़े स्तर पर जांच शुरू कर दी है। पहले चरण में उन 550 पायलटों के दस्तावेजों की जांच हो रही है, जिन्होंने 15 महीने के दौरान एयरलाइंस ट्रांसपोर्ट पायलट लाइसेंस (एटीपीएल) हासिल किए हैं। इसके बाद अन्य पायलटों के लाइसेंस जांचे जाएंगे। देश में 4 हजार से अधिक पायलट हैं।

डीजीसीए के डीजी ई.के. भारत भूषण ने बताया कि चरणबद्ध तरीके से सभी पायलटों के लाइसेंस चेक किए जाएंगे क्योंकि यह यात्रियों की सुरक्षा से जुड़ा मुद्दा है। इसमें लापरवाही नहीं होगी। कुछ लाइसेंस की जांच शुरू कर दी गई है। इनमें कमी या संदेह होने पर इन्हें दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच को सौंप दिया जाएगा। डीजीसीए का कहना है कि सभी पायलटों के लाइसेंस की जांच की जाएगी, चाहे कमर्शल पायलट लाइसेंस हों या फिर एटीपीएल।

हाल ही में इंडिगो की पायलट परमिंदर कौर गुलाटी और एयर इंडिया के पायलट जितेंद्र कृष्ण वर्मा को फर्जी मार्कशीट की मदद से लाइसेंस हासिल करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। इनसे पूछताछ में क्राइम ब्रांच को पता लगा है कि फर्जी मार्कशीट पाने के लिए उन्होंने 10 से 12 लाख रुपये खर्च किए थे।

क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि अभी जांच चल रही है। इसमें डीजीसीए का कोई अधिकारी शामिल पाया जाता है तो उसके खिलाफ भी कार्रवाई की जाएगी। हम सभी एंगल से जांच कर रहे हैं। यह भी देखा जा रहा है कि क्या लाइसेंस दिलवाने में दलाल भी सक्रिय हैं।

सूत्रों का कहना है कि इस मसले में डीजीसीए का कोई न कोई स्टाफ जरूर शामिल लग रहा है। हालांकि क्राइम ब्रांच के डीसीपी अशोक चांद सधे शब्दों में कहते हैं कि जांच में कई चीजें निकलकर आ रही हैं। पायलट वर्मा से पूछताछ में पता लगा है कि उसने 2009 में फ्लोरिडा से एटीपीएल लाइसेंस लिया था। मगर इसे इंडियन एटीपीएल में कनवर्ट कराने के लिए एक पेपर देना था। इस पेपर में वह फेल हो गया। इसके बाद उसने फर्जी मार्कशीट लगाकर यह लाइसेंस हासिल कर लिया।

उन्होंने बताया कि दो फरार पायलटों को भी जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। डीजीसीए के पूर्व डीजी कानू गोहेन का कहना है कि यह काफी गंभीर मामला है। यदि ऐसा होगा तो इससे लोगों का विश्वास टूटेगा।

Posted on Mar 17th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  ब्रेकिंग न्यूज     
Subscribe by Email

1 Response to " 10 लाख में पायलट का लाइसेंस "

  1. राहुल says:

    जय हो भारत सरकार की…….

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी