विश्व कप में फिक्सिंग: 7 मैच, 11 खिलाड़ी हैं शक के दायरे में!

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

नई दिल्ली. क्या अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) के तमाम दावों के बावजूद विश्व कप क्रिकेट २०११ में मैच फिक्सिंग और स्पॉट फिक्सिंग धड़ल्ले से जारी है? एक समाचार चैनल के दावे को सही माने तो विश्व कप में मैच फिक्सिंग का सिलसिला जारी है। टीवी चैनल ने दावा किया है कि विश्व कप में कम से कम दो मैचों में फिक्सिंग की गई है। टीवी चैनल के मुताबिक 21 फरवरी को अहमदाबाद में ऑस्ट्रेलिया और जिंबाब्वे मैच के दौरान ऑस्ट्रेलिया के दो खिलाड़ियों पर मैच फिक्सिंग का शक है।

टीवी चैनल की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि अहमदाबाद में ऑस्ट्रेलिया-जिंबाब्वे के मैच से पहले दोनों टीमें जिस फाइव स्टार होटल में ठहरी हुई थीं, उसी होटल में अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहीम का एक गुर्गा ऑस्ट्रेलिया के दो क्रिकेटरों से मिला था। इस मुलाकात की जानकारी आईसीसी को मिल गई थी। चैनल का दावा है कि इस मैच से 6 घंटे पहले ही आईसीसी को इन दो ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की हरकतें पता लग चुकी थीं। वहीं, 26 फरवरी को कोलंबो में पाकिस्तान और श्रीलंका के बीच मैच में नतीजा बहुत नाटकीय रहा। आईसीसी को पता चला था कि कोलंबो में मैच का नतीजा बेहद चौंकाने वाला होगा और हारने वाली टीम के 3 खिलाड़ी अपनी टीम, अपने देश के नाम पर बट्टा लगाएंगे। मैच में ऐसा ही हुआ। पाकिस्तान और श्रीलंका के मैच में मेजबान श्रीलंका के 3 खिलाड़ियों ने बेहद खराब प्रदर्शन किया और अपनी टीम को हार के दरवाजे पर ला खड़ा किया।

टीवी चैनल आईबीएन 7 ने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि आईसीसी ने इन तीन श्रीलंकाई खिलाड़ियों का पूरा लेखाजोखा उनकी टीम के मैनेजमेंट से मांगा है। विश्व कप में कुल 7 मैच ऐसे हैं, जिनके नतीजे बेहद चौंकाने वाले रहे हैं। ये सातों मैच आईसीसी के शक के दायरे में हैं। चैनल का दावा है कि उनके पास एक्सक्लूसिव जानकारी है कि इनमें से श्रीलंका के 3, ऑस्ट्रेलिया के 2, पाकिस्तान का 1, इंग्लैंड के 3 खिलाड़ियों के नाम हैं। वेस्ट इंडीज के 2 खिलाड़ियों ने भी स्पॉट फिक्सिंग में हाथ आजमा लिया है।

क्या हुआ था दो मैचों में
ऑस्ट्रेलिया-जिंबाब्वे मैच
ऑस्ट्रेलिया को धमाकेदार शुरुआत के लिए जाना जाता है लेकिन कंगारू जिम्बाब्वे जैसी कमजोर टीम के सामने भी जैसे भीगी बिल्ली बन गए। ऑस्ट्रेलिया के ओपनर बल्लेबाजों-ब्रैड हैडिन और शेन वॉटसन ने बहुत धीमी शुरुआत की थी। दोनों ने जिंबाब्वे जैसी औसत गेंदबाजी वाली टीम के सामने पहले दस ओवरों में महज 28 रन बनाए थे। इसके बाद ही आईसीसी को शक हुआ था।

पाकिस्तान-श्रीलंका मैच
श्रीलंका के एक टीवी चैनल ने दावा किया था कि पाकिस्तान के खिलाफ वनडे मैच के दौरान महेला जयवर्द्धने और तिलन समरवीरा ने मैच फिक्सिंग की थी। हालांकि, श्रीलंकाई बोर्ड और टीम प्रबंधन ने इन आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था। गौरतलब है कि विश्व कप की मजबूत दावेदारों में से एक श्रीलंका की टीम पाकिस्तान से 11 रनों से हार गई थी। इस मैच में महेला जयवर्द्धने और तिलन समरवीरा, दोनों सस्ते में आउट हो गए थे।

लंदन और नैरोबी से शुरू हुआ ‘खेल’
फिक्सिंग की खबर दिखाने वाले निजी चैनल का दावा है कि उसके पास उन नंबरों की लिस्ट भी मौजूद है जहां वर्ल्ड कप के दौरान कॉल किए गए। ये नंबर लंदन और नैरोबी के हैं। सट्टेबाजों ने इन्हीं दो शहरों से वर्ल्ड कप को फिक्स करने का खेल शुरू किया है। खास बात यह है कि लंदन और नैरोबी से जिन नंबरों पर बात हुई वह उन होटलों के बेहद करीब थे, जहां मैच खेलने के लिए टीमें ठहराई गईं थीं। जांच एजेंसियों ने आगाह किया है कि तमाम बड़े सट्टेबाज अपने-अपने तरीके से खिलाड़ियों तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं। किसी ने उस होटल में ही अपने एजेंट ठहरा दिए हैं जहां टीम के खिलाड़ी रुकने वाली है। कई होटल स्टाफ और फोन के जरिए खिलाड़ियों से संपर्क साधने की जुगाड़ में हैं। यही वजह है कि वर्ल्ड कप के दौरान आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट की नींद उड़ी हुई है।
भारतीय जांच एजेंसियों के पास सुबूत! 5 शहरों में हुए मैचों शक
मीडिया में आई खबरों के मुताबिक खुद भारतीय जांच एजेंसियों ने कई ऐसी कॉल इंटरसेप्ट की है जो लंदन और नैरोबी से भारत के उन शहरों में की गईं जहां वर्ल्ड कप के अहम मैच खेले जा रहे हैं। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक भारतीय जांच एजेंसियों ने ही 29 से ज्यादा फोन कॉल पकड़ी हैं। इनमें से 18 कॉल लंदन से की गई जबकि 11 नैरोबी से। इसमें 39 सेकेंड से लेकर 1 मिनट 3 सेकेंड तक बातचीत हुई है। बड़ी बात ये कि इन 29 कॉल के टावर भी उस होटल से बेहद नजदीक थे जहां खिलाड़ी ठहरे थे। सूत्रों की मानें तो लंदन के कुछ नंबरों से आईं कॉल बेहद संदिग्ध है। जांच में जुटी एजेंसियों के मुताबिक ये कॉल अहमदाबाद, नागपुर और बेंगलोर के अलावा 4 बार मीरपुर और 7 बार कोलंबो में रिकॉर्ड की गई है। यानी वर्ल्ड कप के दौरान कम से कम 5 शहरों में हुए मैचों पर सट्टेबाजी का साया है। आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट के सूत्रों की मानें तो शक की एक बड़ी वजह ये है कि जिन शहरों में ये कॉल पकड़ी गई उन शहरों में हुए मैच के नतीजे में काफी उलटफेर देखा गया।

कुछ अधूरे नंबर, जिनसे हुई है कॉल
चैनल ने कुछ फोन नंबरों के शुरुआती अंक भी दिखाए हैं और दावा किया है कि इन नंबरों पर मैच फिक्सिंग से जुड़ी बातचीत की गई है। हालांकि, ये नंबर अधूरे हैं।

+254-41-2316***

+254-41-2314***

+254-41-474***

+ 254 040 320***

(तस्वीर: ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटर ब्रैड हैडिन और शेन वॉटसन, इनपर मैच फिक्सिंग का शक जताया जा चुका है)

Posted on Mar 19th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी