रनों की होली खलने उतरेगा भारत

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

चेन्नई। चेन्नई के चेपक स्टेडियम पर रविवार को जब टीम इंडिया वेस्टइंडीज के खिलाफ आखिरी ग्रुप मैच खेलने उतरेगी तो टीम का इरादा कैरेबियाई टीम पर रंगों की जगह रनों की बौछार करना होगा।

रंगों के त्योहार के दिन टीम इंडिया दमदार जीत दर्ज कर देशवासियों को होली का उपहार देना चाहेगी, जबकि कैरेबियाई टीम की नजर भी जीत के साथ सुपर आठ में जगह पक्की करने पर होगी।

यह मैच जीतकर भारत न सिर्फ क्वार्टर फाइनल में जगह पक्की कर लेगा और पिछले मैच में दक्षिण अफ्रीका के हाथों हुई पराजय के बाद खोया मनोबल भी हासिल कर लेगा। गेंदबाजी और फील्डिंग में समस्याओं के अलावा भारत अभी तक सही टीम संयोजन नहीं तलाश पाया है जिस पर टीम प्रबंधन को संजीदगी से सोचना होगा।

इस मैच में सभी की नजरें सचिन तेंदुलकर पर भी होंगी जो सौवा अंतरराष्ट्रीय शतक बनाने की दहलीज पर हैं। तेंदुलकर के नाम पर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 99 शतक हो चुके हैं जिनमें 177 टेस्ट में 51 और 449 वनडे में 48 शतक शामिल है। चेपक उनका पसंदीदा मैदान भी है, जहाँ उन्होंने पाच टेस्ट शतक जड़े हैं। यदि वह इस मैच में शतक जमाते हैं तो वनडे क्रिकेट में इस मैदान पर यह उनका पहला शतक होगा।

टीम के अब तक के औसत प्रदर्शन के बावजूद भारत की क्वार्टर फाइनल में जगह लगभग पक्की है। यह मैच हारने पर भी महेंद्र सिंह धौनी की टीम नेट रनरेट के आधार पर अगले दौर में पहुंच जाएगी।

अभी तक ग्रुप बी से सिर्फ दक्षिण अफ्रीका ही क्वार्टर फाइनल में पहुंच सका है। बाकी तीन स्थानों के लिए भारत, इंग्लैंड [सात अंक], वेस्टइंडीज और बाग्लादेश [छह अंक] के बीच खुला मुकाबला है। भारत उसी स्थिति में बाहर हो सकता है जब वेस्टइंडीज उसे बुरी तरह हरा दे।

खिताब की प्रबल दावेदार मानी जा रही भारतीय टीम अभी तक अपेक्षा के अनुरूप नहीं खेल सकी है। गेंदबाजी औसत रही है और बल्लेबाज भी लगातार अच्छा नहीं खेल सके हैं। खराब फार्म से जूझ रहे लेग स्पिनर पीयूष चावला को बार-बार मौका दिए जाने पर धोनी और चयनकर्ताओं के बीच भी मतभेद पैदा हो गए हैं।

आफ स्पिनर आर आश्विन को अंतिम एकादश से बाहर रखकर चावला को तरजीह देने के धोनी के फैसले से मुख्य चयनकर्ता श्रीकान्त  खफा हैं। बीसीसीआई ने हालाकि मतभेद की खबरों का खण्डन  किया है लेकिन कुछ तो गड़बड़ जरूर है। बल्लेबाजी क्रम में भी बदलाव करने पर धोनी को आलोचना झेलनी पड़ी है।

इस मैच में आश्विन को मौका दिए जाने की पूरी संभावना है जिनका यह घरेलू मैदान है। ऐसे संकेत हैं कि युसूफ पठान की जगह सुरेश रैना को उतारा जा सकता है। दूसरी ओर कैरेबियाई टीम का कोई भरोसा नहीं है जो फार्म में होने पर किसी को भी हरा सकती है।

बल्लेबाजी में हालाकि टीम क्रिस गेल पर बहुत हद तक निर्भर करती है जिन्हें अपनी साख के अनुरूप खेलना है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारत के आखिरी नौ विकेट जिस तरह 29 रन के भीतर गिर गए , उससे साबित होता है कि बल्लेबाजी अभी भी बहुत हद तक तेंदुलकर पर निर्भर करती है।

उन्होंने 111 रन बनाए थे। नागपुर में हुए उस मैच के बाद तीन दिन के ब्रेक में खिलाड़ियों को आत्ममंथन करने का पूरा मौका मिला है।

वहीं डेरेन सैमी की अगुवाई वाली कैरेबियाई टीम को अगले दौर में जाने के लिए यह मैच हर हालत में जीतना होगा। उसके लिए अच्छी बात पिछले मैच के जरिए वनडे क्रिकेट में पदार्पण करने वाले युवा लेग स्पिनर देवेंद्र बिशू का शानदार फार्म है जिसने तीन विकेट चटकाए थे।

टीमें इस प्रकार से है :-

भारत-

महेंद्र सिंह धोनी [कप्तान], वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, सचिन तेंदुलकर, विराट कोहली, युवराज सिंह, सुरेश रैना, युसूफ पठान, हरभजन सिंह, पीयूष चावला, आर अश्विन, जहीर खान, आशीष नेहरा, एस श्रीसंथ, मुनाफ पटेल।

वेस्टइंडीज-

डेरेन सैमी [कप्तान], क्रिस गेल, डेवेन स्मिथ, डेरेन ब्रावो, रामनरेश सरवन, शिवनारायण चंद्रपाल, कीरोन पोलार्ड, डेवोन थामस, सुलेमान बेन, निकिता मिलर, कीमर रोच, किर्क एडव‌र्ड्स, रवि रामपाल, आद्रे रसेल, देवेंद्र बिशू।

Posted on Mar 19th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र, बड़ी खबर     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी