भारत-आस्ट्रेलिया के बीच होगी रोचक भिड़ंत

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

अहमदाबाद। सह मेजबान भारत बृहस्पतिवार को विश्व कप के दूसरे क्वार्टर फाइनल मुकाबले में जब तीन बार की गत चैंपियन आस्ट्रेलियाई टीम से भिड़ेगा तो दुनिया की चोटी की दो वनडे टीमों के बीच क्रिकेट का सबसे रोमाचक मैच होने की उम्मीद है।

पिछले दशक में दोनों चिर प्रतिद्वंद्वियों के बीच कुछ कड़े मुकाबले देखने को मिले हैं और कल का मुकाबला भी इससे अलग नहीं होगा जिसमें दोनों टीमें एक-दूसरे को कोई मौका नहीं देना चाहतीं। लीग चरण में दोनों टीमों का प्रदर्शन संतोषजनक रहा था लेकिन दोनों को पता है कि नॉक आउट चरण में उन्हें दूसरा मौका नहीं मिलने वाला। ऐसी स्थिति में जो टीम दबाव से बेहतर तरीके से निपटने में सफल रहेगी उसका पलड़ा भारी रहेगा। टॉस भी अहम हो सकता है क्योंकि दूसरी पारी में ओस की भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है।

आस्ट्रेलिया और भारत की टीमें अब तक आक्रामक खेल के साथ दबदबा बनाने में विफल रही हैं लेकिन मेजबान टीम ने अपने अंतिम मैच में वेस्टइंडीज पर बड़ी जीत के साथ लय हासिल की थी। दूसरी तरफ आस्ट्रेलिया को अपने अंतिम मैच में पाकिस्तान के हाथों हार झेलनी पड़ी थी जिससे विश्व कप में 34 मैच के उसके अजेय अभियान पर भी विराम लगा। भारत को दर्शकों का समर्थन भी मिलेगा और 50,000 दर्शकों की क्षमता वाले स्टेडियम में अधिकाश प्रशसक आस्ट्रेलिया की हार की दुआ करेंगे। दुनिया की नंबर एक टीम आस्ट्रेलिया ने टेस्ट क्रिकेट में पिछड़ने के बाद निश्चित तौर पर वनडे प्रारूप में भी अपना अजेय होने का तमगा गंवा दिया है।

वीरेंद्र सहवाग के इस मैच के लिए पूरी तरह फिट होने की उम्मीद है जिससे महेंद्र सिंह धौनी की टीम को मजबूती मिलेगी। धौनी की टीम की नजरें अब गत चैंपियन को हराकर विश्व कप खिताब को 28 बरस बाद दोबारा भारत लाने की तरफ एक और मजबूत कदम बढ़ाने पर टिकी है लेकिन ऐसा करने के लिए उसे आस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना सर्वश्रेष्ठ खेल दिखाना होगा। सचिन तेंदुलकर की अगुवाई में भारतीय शीर्ष क्रम ने अच्छा प्रदर्शन किया है। तेंदुलकर ने इंग्लैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शतक बनाए। आस्ट्रेलिया के खिलाफ तेंदुलकर का रिकार्ड बेहतरीन रहा जिस टीम के खिलाफ उन्होंने 67 वनडे मैचों में 46.23 की औसत से 3,000 से अधिक रन बनाए हैं। इसके अलावा वह अंतरराष्ट्रीय शतकों का शतक पूरा करने से भी एक कदम दूर हैं।

सहवाग ने टूर्नामेंट की शुरुआत ढाका में बाग्लादेश के खिलाफ 175 रन की पारी के साथ की लेकिन वह वेस्टइंडीज के खिलाफ पिछले मैच में नहीं खेल पाए और टीम को उनसे अब एक बार फिर बड़ी पारी की उम्मीद होगी। सहवाग और तेंदुलकर क्रमश: 327 और 236 रन बनाकर मौजूदा विश्व कप में सर्वाधिक रन बनाने वालों की सूची में चौथे और पाचवें स्थान पर हैं और आस्ट्रेलिया के खिलाफ उनसे एक बार फिर अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है। युवराज सिंह भी बल्ले और गेंद से सफल रहे हैं। उन्होंने अब तक 284 रन बनाने के अलावा नौ विकेट भी चटकाए है। इन तीनों के अलावा बड़े स्कोर के लिए टीम की नजरें गौतम गंभीर पर भी टिकी होंगी। कप्तान धौनी हालाकि उम्मीद करेंगे कि पिछले दो मैचों की तरह इस बार उनका बल्लेबाजी क्रम ध्वस्त नहीं हो।

गेंदबाजी में भारतीय टीम जहीर खान पर काफी निर्भर होगी क्योंकि मुख्य स्पिनर हरभजन सिंह सहित अन्य ने अब तक सहयोगी की भूमिका ही निभाई है। बाएं हाथ का यह गेंदबाज टूर्नामेंट में अब तक 15 विकेट चटका चुका है और मौजूदा टूर्नामेंट का दूसरा सबसे सफल गेंदबाज है। जहीर अपने अनुभव और कौशल के दम पर आस्ट्रेलिया के शीर्ष क्रम के लिए परेशानी खड़ी कर सकते हैं। भारत के उसी गेंदबाजी आक्रमण के साथ उतरने की उम्मीद है जिसने वेस्टइंडीज के खिलाफ टीम को जीत दिलाई थी। टीम प्रबंधन हालाकि मुनफ पटेल की जगह बाएं हाथ के तेज गेंदबाज आशीष नेहरा को मौका देने के बारे में सोच सकता है।

दूसरी तरफ टूर्नामेंट में अब तक छह मैचो में केवल 102 रन बना पाए आस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पोंटिंग पर काफी दबाव होगा क्योंकि उनकी कप्तानी पर फैसला काफी हद तक विश्व कप में टीम के प्रदर्शन के आधार पर किया जाएगा। आस्ट्रेलिया की बल्लेबाजी थोड़ी कमजोर है लेकिन ब्रेट ली की अगुवाई में उसका तेज गेंदबाजी आक्रमण काफी मजबूत है। टीम इसके अलावा स्टीवन स्मिथ की जगह डेविड हसी को मौका दे सकती है। भारत में 2009-10 से दोनों टीमों के बीच हुए मुकाबलों में कोई भी टीम दबदबा बनाने में सफल नहीं रही है। इस दौरान हुए 10 मैचों में से तीन में भारत ने जबकि चार में आस्ट्रेलिया ने जीत दर्ज की। अन्य मैच बारिश की भेट चढ़ गए।

भारत ने हालाकि 1987 के बाद आस्ट्रेलिया को विश्व कप में शिकस्त नहीं दी है जबकि इस दौरान 1996, 1999 और 2003 में उसे शिकस्त का सामना करना पड़ा। मोटेरा में भारत ने 12 में से केवल पाच मैच जीते हैं जबकि यहा खेले पिछले तीन मैचों में उसे हार का सामना करना पड़ा।

संभावित टीम:

भारत: महेंद्र सिंह धौनी [कप्तान], सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, युवराज सिंह, विराट कोहली, यूसुफ पठान, हरभजन सिंह, जहीर खान, आर अश्विन, मुनफ पटेल, आशीष नेहरा, पीयूष चावला, सुरेश रैना और एस श्रीसंथ।

आस्ट्रेलिया: रिकी पोंटिंग [कप्तान], शेन वाटसन, ब्रैड हैडिन, माइकल क्लार्क, माइक हसी, कैमरून व्हाइट, स्टीवन स्मिथ, डेविड हसी, जॉन हेस्टिंग्स, मिशेल जानसन, ब्रेट ली, जेसन क्रेजा, शान टैट, कैलम फग्र्युसन और टिम पैने।

Posted on Mar 23rd, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र, बड़ी खबर     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी