टिकट टू अब्रॉड

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

अंग्रेजी का आसमान लगातार फैल रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2005 में जहां केवल 16.4 प्रतिशत ग्रामीण छात्रों ने अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों में दाखिला लिया था, वर्ष 2008 में यह संख्या बढकर 26 प्रतिशत हो गई है। तमिलनाडु, केरल और पंजाब ने अपने यहां के स्कूल टीचर्स को अंग्रेजी भाषा में ट्रेंड करने के लिए ब्रिटिश काउंसिल, इंडिया से टाई-अप किया है। केवल यही नहीं, अंग्रेजी आपके विदेश में पढने के सपने को भी पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। इसके लिए आपको विभिन्न प्रकार के टेस्ट देने होते हैं। हालिया खबर के मुताबिक, विदेश की तरह अब भारत में भी इस तरह का टेस्ट होगा, जिसकी पहली परीक्षा आगामी 30 मई को संभावित है। हैदराबाद स्थित द इंग्लिश ऐंड फॉरेन लैंग्वेज यूनिवर्सिटी ने इस एग्जाम को कंडक्ट करने के लिए ऑल इंडिया इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग अथॉरिटी भी बनाई है। इसकी खासियत यह है कि फॉरेन मानक टेस्ट की अपेक्षा इसकी फीस काफी कम होगी। कुछ प्रमुख अंग्रेजी टेस्ट परीक्षाएं हैं :

इंटरनेशनल इंग्लिश लैंग्वेज टेस्टिंग सिस्टम (IELTS)

इस परीक्षा का आयोजन ब्रिटिश काउंसिल, कैंब्रिज यूनिवर्सिटी, ईएसओएल और आईडीपी एजुकेशन, ऑस्ट्रेलिया द्वारा संयुक्त रूप से किया जाता है। आईईएलटीएस स्कोर ऑस्ट्रेलिया, ब्रिटेन, कनाडा, आयरलैंड, न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका के शैक्षणिक संस्थानों के अलावा, कुछ अमेरिकी संस्थानों में भी मान्य हैं। अधिक जानकारी के लिए विजिट कर सकते हैं- www.ieltsindia.comपर। टेस्ट ऑफ इंग्लिश एज ए फॉरेन लैंग्वेज (toefl)

अमेरिका सहित दुनिया के कई देशों के संस्थानों में यह मान्य है। वैसे, तो टॉफेल का स्कोर दो साल के लिए मान्य होता है, लेकिन अधिकतर संस्थान ताजा स्कोर की ही मांग करते हैं। वेबसाइट है- www.ets.org

ग्रेजुएट मैनेजमेंट टेस्ट (GMAT)

मैनेजमेंट कॉलेजों में दाखिले के लिए जीमैट एग्जाम के स्कोर जरूरी होते हैं। जीमैट सामान्यतया तीन सेक्शनों में बंटा होता है-एनालिटिकल राइटिंग एसेसमेंट, क्वांटिटेटिव और वर्बल। जानकारी के लिए विजिट करें- gmat.learnhub.comपर।

स्कॉलिस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट (SAT)

अमेरिका के कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में एडमिशन के लिए सैट यानी स्कॉलिस्टिक एप्टीट्यूड टेस्ट से होकर गुजरना होता है। यह परीक्षा ईटीएस (एजुकेशनल टेस्टिंग सर्विस) द्वारा संचालित की जाती है। परीक्षा में वस्तुनिष्ठ टाइप प्रश्न पूछे जाते हैं। इस वेबसाइट पर पूरी जानकारी ले सकते हैं-www.collegeboard.com।

परीक्षाएं और भी हैं..

और भी कई तरह के टेस्ट हैं, जो अंग्रेजी की जानकारी को परखते हैं। जैसे, ग्रेजुएट रिकॉर्ड एग्जामिनेशन अमेरिका के कई ग्रेजुएट कॉलेजों में एडमिशन जीआरई स्कोर के आधार पर होता है। इसके अलावा, टोईक (TOEIC) अर्थात टेस्ट ऑफ इंग्लिश फॉर इंटरनेशनल कम्युनिकेशन होता है।

कैसे करें तैयारी?

इन परीक्षाओं में कामयाबी का मूलमंत्र है-अंग्रेजी भाषा पर अच्छी पकड और स्मार्ट स्ट्रेटजी। यदि आप नियमित अंग्रेजी अखबार पढते हैं, अंग्रेजी की स्टैंडर्ड मैग्जींस पढने का शौक है, तो इससे काफी हद तक आपकी राह आसान हो सकती है। जीमैट की तैयारी कर रहे हैं, तो इसके लिए अंग्रेजी के साथ-साथ मैथ्स पर भी अच्छी पकड होनी चाहिए। दरअसल, इसमें क्रिटिकल रीजनिंग, कॉम्प्रिहेंशन आदि से जुडे सवाल पूछे जाते हैं। हां, इस टेस्ट में एक बात और देखी जाती है कि आप कम से कम समय में कितने प्रश्नों को हल कर सकते हैं।

Posted on Sep 28th, 2010
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  शिक्षा     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी