भारत पाकिस्तान मोहाली में आमने सामने

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

मोहाली। मोहाली के पीसीए स्टेडियम पर विश्व कप के दूसरे सेमीफाइनल में आज   को भारत और पाकिस्तान आमने-सामने होंगे तो दोनों में से किसी एक टीम के सपने  मटियामेट हो जाएंगे, जबकि दूसरी टीम दूसरा विश्व कप जीतने के लिए एक कदम और  बढ़ा लेगी। इस हाई वोल्टेज मुकाबले को जीतने के लिए दोनों ही टीमें सब कुछ दांव पर  लगा देंगी। हालांकि पाक अभी तक विश्व कप में भारत को हराने में सफल नहीं हो सका है।

दोनों चिर प्रतिद्वंद्वी टीमों के कप्तान जब टास के लिए मैदान पर उतरेंगे तो इनके साथ  स्टेडियम की दर्शक-दीर्घाओं में मौजूद हजारों प्रशंसकों के अलावा दुनिया भर में टेलीविजन  के जरिए मैच देखने के लिए लालायित करोड़ों लोगों की भावनाएं भी जुड़ी होंगी। जंग के  मैदान में भी एक-दूसरे का सामना कर चुके भारत और पाकिस्तान में क्रिकेट  की लोकप्रियता जगजाहिर है।

ऐसे में सेमीफाइनल मैच का नतीजा केवल विश्व कप के खिताबी मुकाबले का टिकट पाने के लिए ही नहीं बल्कि राष्ट्रीय गर्व की भी बात है। भारत के प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनके पाकिस्तानी समकक्ष यूसुफ रजा गिलानी सहित कई अन्य अति-विशिष्ठ लोगों की उपस्थिति में होने वाले इस मैच को विश्व कप 2011 का महामुकाबला कहा जा रहा है। भारत-पाक क्रिकेट मैच को वैसे भी विश्व के सबसे कड़े प्रतिस्पर्धी मुकाबलों में गिना जाता है जिसमें जो टीम दबाव वाली स्थितियों से बेहतर तरीके से निपटती है, जीत उसी की होती है। दोनों टीमों का सब-कुछ दांव पर लगा है, क्योंकि इस मैच में जीत से दो अप्रैल को मुंबई में होने वाले विश्व कप फाइनल का रास्ता खुलेगा।

नवंबर 2008 में मुंबई में हुए आतंकी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान की टीमें पहली बार भारतीय सरजमीं पर भिड़ेंगी। इस आतंकी हमले के बाद दोनों देशों के द्विपक्षीय क्रिकेट संबंध टूट गए थे। भारत और पाकिस्तान के बीच जहां तक विश्व कप में मुकाबलों की बात है तो इस मामले में रिकार्ड टीम इंडिया के साथ है।

यह दोनों पड़ोसी देश क्रिकेट महाकुंभ में चार बार भिड़ चुके हैं जिसमें हर बात पाकिस्तान टीम ने मुंह की खाई है। हालांकि कुल मिलाकर रिकार्ड देखा जाए तो पाक टीम ने 119 में से 69 मैच जीतकर बढ़त बनाई हुई है। भारतीय सरजमीं पर भी पाकिस्तान का रिकार्ड अच्छा है, उसने यहां खेले 26 में से 17 मैचों में जीत दर्ज की है। हालांकि जब यह टीमें मैदान पर उतरती हैं तो आंकड़े और प्रतिष्ठा का कोई मतलब नहीं रह जाता और उस मैच वाले दिन जो टीम अच्छा खेलती है वह जीतती है। गत विजेता आस्ट्रेलिया और प्रबल दावेदार दक्षिण अफ्रीका क्वार्टर फाइनल में अपने-अपने मुकाबले हारकर पहले ही खिताबी दौड़ से बाहर हो चुके हैं।

कहा जा रहा है कि भारत अपने पारंपरिक प्रतिद्वंद्वी के बजाए मजबूत नजर आ रहा है और वह दबाव वाली स्थितियों से निपटने के लिए घरेलू माहौल और दर्शकों के समर्थन का फायदा उठाना चाहेगा। भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने बहादुरी से अपना पक्ष रखते हुए कहा है कि भारतीय खिलाड़ी किसी भी तरह के दबाव में नहीं आएंगे। धौनी ने कहा, विश्व कप उपमहाद्वीप में खेला जा रहा है और भारत तथा पाकिस्तान सेमीफाइनल खेल रहे हैं। इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता। दबाव काफी होगा लेकिन वास्तविकता में इसका हम पर कोई अंतर नहीं पड़ता। यह केवल एक मैच होगा। बडे़ मुकाबलों में क्रिकेट टीमें हमेशा दबाव में होती है, लेकिन हम इससे बेहतर तरीके से निपट चुके हैं। भारतीय टीम प्रबंधन ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ क्वार्टर फाइनल में जो टीम उतारी थी, उम्मीद है कि वही टीम पाकिस्तान के खिलाफ भी देखने को मिल सकती है। हालांकि पीसीए स्टेडियम की पिच को देखते हुए एक तेज गेंदबाज को शामिल किया जा सकता है।

आफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने अब तक खेले दो मैचों में शानदार प्रदर्शन किया है, इसलिए ऐसा नहीं लग रहा कि टीम प्रबंधन उनकी या किसी एक बल्लेबाज की जगह एक तेज गेंदबाज को शामिल करे। पिछले मैच में यूसुफ पठान की जगह टीम में चुने गए सुरेश रैना ने आस्ट्रेलिया के खिलाफ युवराज सिंह के साथ मिलकर 74 रन की नाबाद साझेदारी की और भारत को जीत तक पहुंचाया। इतने सारे रोमांच और तनाव के बीच भारतीय प्रशंसक उम्मीद कर रहे हैं कि प्रचंड फार्म में चल रहे मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर शतक जड़ें और 100वां अंतरराष्ट्रीय शतक लगाने की यादगार उपलब्धि हासिल करें। पाकिस्तान के कप्तान शाहिद अफरीदी हालांकि तेंदुलकर को इस अति महत्वपूर्ण मैच में उपलब्धि हासिल करने का मौका देने के बिल्कुल भी मूड में नहीं हैं।

अफरीदी ने कहा, सचिन को अपने 100वें अंतरराष्ट्रीय शतक के लिए विश्व कप के बाद तक का इंतजार करना पड़ेगा क्योंकि हम उन्हें या किसी अन्य भारतीय खिलाड़ी को बड़ी पारी खेलने का मौका नहीं देंगे। अफरीदी ने कहा, यह क्रिकेट का मैच है और दोनों टीमें सेमीफाइनल जीतने का दावा कर सकती हैं लेकिन हमारी वर्तमान फार्म को देखते हुए मैं विश्वस्त हूं कि हम भारत को हरा सकते हैं। विश्व कप खिताब जीतना तेंदुलकर का अधूरा सपना रहा है और मास्टर ब्लास्टर जानते हैं कि इसे पूरा करने का यह उनका अंतिम और सबसे सुनहरा मौका है। पाकिस्तान टीम ने अपने स्पिनरों की मदद से सेमीफाइनल तक का सफर तय किया है जबकि भारतीय टीम की मजबूती उसकी बल्लेबाजी रही है और उनकी गेंदबाजी कमजोर नजर आई है।

भारत की जीत का दारोमदार तेंदुलकर और आक्रामक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग की सलामी जोड़ी पर होगा कि वह टीम को शानदार शुरुआत दिलाएं और मध्यक्रम के लिए बडे़ स्कोर का प्लेटफार्म तैयार करें। भारत के पास गौतम गंभीर, विराट कोहली, युवराज सिंह, कप्तान महेंद्र सिंह धौनी और सुरेश रैना जैसी लंबा और धुआंधार बल्लेबाजी क्रम है। इस विश्व कप में अब तक चार मैन आफ द मैच खिताब जीत चुके युवराज अपने घरेलू मैदान पर एक बार फिर बल्ले और गेंद के साथ अहम भूमिका निभा सकते हैं। वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान इस विश्व कप में इकाई के रूप खेला है और उसने मैच फिक्सिंग प्रकरण जैसे विवादों को भुलाते हुए सेमीफाइनल तक का सफर तय किया है। कप्तान अफरीदी भले ही बल्ले से असफल रहे हों लेकिन उनकी फिरकी ने विपक्षी बल्लेबाजों को घुटने टेकने पर मजबूर किया है। अफरीदी इस विश्व कप में अब तक सर्वाधिक 21 विकेट ले चुके हैं। पाकिस्तान के लिए यूनिस खान और मिस्बाह उल हक का अनुभव काफी मददगार साबित हो सकता है। इतिहास गवाह है कि इस पिच पर टास जीतने वाला कप्तान पहले बल्लेबाजी करना पसंद करता है।

टीमें इस प्रकार हैं: भारत- महेंद्र सिंह धौनी [कप्तान], सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर, युवराज सिंह, विराट कोहली, यूसुफ पठान, हरभजन सिंह, जहीर खान, आर अश्विन, मुनाफ पटेल, आशीष नेहरा, पीयूष चावला, सुरेश रैना और एस श्रीसंथ में से। पाकिस्तान- शाहिद अफरीदी [कप्तान], मिस्बाह उल हक, मोहम्मद हफीज, कामरान अकमल, यूनुस खान, असद शफीक, उमर अकमल, अब्दुल रज्जाक, अब्दुर रहमान, सईद अजमल, शोएब अख्तर, उमर गुल, वहाब रियाज, जुनैद खान और अहमद शहजाद में से।

Posted on Mar 30th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र, बड़ी खबर     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी