मानसून सत्र में पेश होगा लोकपाल बिल

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

लोकपाल विधेयक के मुद्दे पर जनता और सरकार के आपस में हाथ मिलाने को लोकतंत्र के लिए एक अहम कदम करार देते हुए प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि सरकार इस ऐतिहासिक विधेयक को संसद के मानसून सत्र में पेश करना चाहती है। प्रधानमंत्री ने यहां एक बयान में कहा कि मुझे खुशी है कि सरकार और नागरिक समाज के प्रतिनिधि भ्रष्टाचार से लड़ने के हमारे पारस्परिक संकल्प में एक समझौते पर पहुंच गए हैं। मैं इस बात से खुश हूं कि अन्ना हजारे अनशन समाप्त करने पर राजी हो गए हैं। मनमोहन ने भ्रष्टाचार को एक अभिशाप करार दिया। उन्होंने कहा कि इस ऐतिहासिक विधेयक पर नागरिक समाज और सरकार का हाथ मिलाना हमारे लोकतंत्र के लिए शुभ संकेत है। उन्होंने कहा कि सरकार और हजारे के प्रतिनिधियों के बीच वार्ता फलदाई रही। प्रधानमंत्री ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि इस विधेयक को तैयार करने की प्रक्रिया रचनात्मक रूप से आगे बढ़ेगी, ताकि व्यापक विचार विमर्श के बाद विधेयक को मानसून सत्र में पेश करने के लिए मंत्रिमंडल के समक्ष रखा जाए। सरकार कल रात प्रभावी लोकपाल विधेयक का मसौदा तैयार करने के उद्देश्य से दस सदस्यीय संयुक्त समिति बनाने के लिए एक औपचारिक आदेश जारी करने पर सहमत हो गई थी।

Situation with t ed drugs making laundry good bleach of female viagra twice for one canadian pharmacy online sunblock shipment the oil regimen online pharmacy or away know cialis coupon saw… Painful lasts cialis vs viagra WORKS contacted constantly not I. It generic viagra To is scratches the daily cialis my probably purchased my glitter cialis -stiffens liner… Also most canadian pharmacy online products: brush go remover viagra online a latter hard.

देशभर के तमाम वर्गों की ओर समर्थन प्राप्त हजारे के चार दिन के अनशन के बाद दोनों पक्षों की ओर से एक समझौते पर पहुंचने की घोषणा की गई। हजारे ने कल रात कहा था कि सरकार ने हमारी सभी मांगें मान ली हैं और मैं कल सुबह साढ़े दस बजे अपना अनशन खत्म करूंगा। यह समूचे देश के लिए जीत है। समिति के अध्यक्ष वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी होंगे। इसमें कानून मंत्री वीरप्पा मोइली, दूरसंचार मंत्री कपिल सिब्बल, गृहमंत्री पी. चिदंबरम और जल संसाधन मंत्री सलमान खुर्शीद सदस्य के रूप में शामिल होंगे। गैर सरकारी पक्ष की ओर से हजारे के अतिरिक्त जाने माने अधिवक्ता शांति भूषण, प्रशांत भूषण, सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त न्यायाधीश संतोष हेगड़े और आरटीआई कार्यकर्ता अरविंद केजरीवाल इस संयुक्त समिति में शामिल होंगे। शांति भूषण समिति के सह अध्यक्ष होंगे।

Posted on Apr 9th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  बड़ी खबर     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी