भारत ने दिखाया अंग्रेजो को दम

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

ट्रेंटब्रिज [नाटिंघम]। गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने चार मैचों की टेस्ट सीरीज के दूसरे मुकाबले के पहले दिन इंग्लैंड को पहली पारी में 221 रनों पर आल आउट कर सस्ते में ही समेट दिया। टीम इंडिया की तरफ से एस श्रीसंथ, ईशांत शर्मा और प्रवीण कुमार ने तीन-तीन विकेट चटकाए।

इंग्लैंड लॉ‌र्ड्स में पहला टेस्ट 196 रन से जीतकर सीरीज में 1-0 से आगे चल रहा है। भारत ने मांसपेशियों में खिंचाव की समस्या से जूझ रहे जहीर की जगह श्रीसंथ, जबकि चोटिल सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर की जगह युवराज सिंह को अंतिम एकादश में शामिल किया।

इंग्लैंड ने भी चोटिल तेज गेंदबाज क्रिस ट्रेमलेट की जगह टिम ब्रिसनेन को मौका दिया है। जहीर खान की गैरमौजूदगी का दुष्परिणाम लॉ‌र्ड्स टेस्ट की तरह भारतीय टीम को यहां नहीं भुगतना पड़ा। ईशांत ने 66, श्रीसंथ ने 77 जबकि प्रवीण ने 45 रन देकर तीन-तीन विकेट चटकाए। इसके अलावा हरभजन ने 22 रन देकर एक विकेट हासिल किया।

श्रीसंथ ने ऑफ साइड से बाहर की ओर स्विंग होती गेंदों से मेजबान टीम के बल्लेबाजों की जमकर परीक्षा ली, जबकि प्रवीण ने भी विरोधी बल्लेबाजों को परेशान किया। लॉ‌र्ड्स टेस्ट की तरह भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने एक बार फिर टॉस जीता।

तेज गेंदबाजों की मददगार पिच को भांपकर उन्होंने यहां पहले गेंदबाजी का फैसला किया, जिसे उनके तेज गेंदबाजों ने सही साबित करने में देर नहीं लगाई और 23 रन के स्कोर तक ही मेजबान टीम के दो विकेट चटका दिए।

कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस [32] और एलिस्टर कुक की सलामी जोड़ी को ईशांत और प्रवीण की सटीक गेंदबाजी के सामने काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा।

ईशांत ने पारी के छठे ओवर में कुक [2] को पगबाधा आउट करके भारत को पहली सफलता दिलाई। 11वें ओवर में जब श्रीसंथ को गेंद सौंपी गई, उन्होंने जोनाथन ट्रॉट [4] को पवेलियन की राह दिखा दी।

श्रीसंथ की ऑफ साइड से बाहर की ओर स्विंग होती गेंद को ड्राइव करने की कोशिश में ट्रॉट दूसरी स्लिप में वीवीएस लक्ष्मण को आसान कैच दे बैठे। स्ट्रॉस और केविन पीटरसन ने इसके बाद मेजबान टीम की पारी को संभालने की कोशिश की। लॉ‌र्ड्स में पहले टेस्ट में नाबाद दोहरा शतक जड़ने वाले पीटरसन पर श्रीसंथ भारी पड़े। श्रीसंथ ने लंच के बाद तीसरी ही गेंद पर पीटरसन [29] को बेहतरीन आउट स्विंगर पर तीसरी स्लिप में सुरेश रैना के हाथों कैच कराकर तीसरे विकेट की 50 रन की साझेदारी का अंत किया।

पीटरसन 17 रन के निजी स्कोर पर भाग्यशाली रहे थे जब अंपायर मराइस इरासमस ने प्रवीण की पगबाधा की विश्वसनीय अपील को ठुकरा दिया। प्रवीण ने इसके बाद स्ट्रॉस [32] और इयान मोर्गन [0] को चार गेंद के भीतर पवेलियन भेजकर मेजबान टीम की मुश्किलें बढ़ा दीं।

स्ट्रॉस प्रवीण की गेंद को ड्राइव करने की कोशिश में तीसरी स्लिप में कैच दे बैठे जबकि मोर्गन इस तेज गेंदबाज की सीधी गेंद को चूककर पगबाधा आउट हुए। श्रीसंथ ने इसके बाद मैट प्रायर [1] को दूसरी स्लिप में राहुल द्रविड़ के हाथों कैच कराकर इंग्लैंड को छठा झटका दिया।

इयान बेल 22 रन के निजी स्कोर पर भाग्यशाली रहे जब प्रवीण की गेंद पर दूसरी स्लिप में द्रविड़ ने उनका आसान कैच छोड़ दिया। बेल और ब्रेसनन ने क्रीज पर जमने की कोशिश की, लेकिन ईशांत ने ब्रेसनन [11] को द्रविड़ के हाथों कैच कराकर चलता किया।

इसके बाद बेल भी ईशांत की ऑफ स्टंप से बाहर जाती गेंद से छेड़छाड़ की कोशिश में धौनी को आसान कैच दे बैठे। उन्होंने 31 रन बनाए। चाय के विश्राम के बाद स्टुअर्ट ब्रॉड [64] और ग्रीम स्वान [28] ने 73 रन की साझेदारी कर स्कोर को 197 पर पहुंचा दिया।

नौवें विकेट के लिए हुई यह साझेदारी इंग्लिश टीम की पहली पारी में सबसे बड़ी साझेदारी रही। इस साझेदारी का अंत प्रवीण ने किया। उन्होंने स्वान को मुकुंद के हाथों लपकवाया।

इसके बाद ब्रॉड और एंडरसन [नाबाद 6] ने स्कोर को 221 रन तक पहुंचाया। ब्रॉड की अर्धशतकीय पारी का अंत हरभजन ने तेंदुलकर के हाथों कैच करा कर किया।

Posted on Jul 29th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी