बनी रहेगी जॉब मार्केट की चमक-दमक

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

भले ही महंगाई आसमान छू रही हो, यू.एस. में आर्थिक मंदी के काले बादल मंडरा रहे हों, भारत में जॉब मार्केट का भविष्य अगले कुछ वर्षो तक सुनहरा बने रहने की पूरी संभावना दिख रही है एक्सप‌र्ट्स को। कई वर्षो से विदेशों में बसे हुए लोग अब भारत लौटने लगे हैं। माना जा रहा है कि भारत में भी अवसरों की कमी नहीं है और वर्ष 2020 तक जॉब मार्केट की यह चमक-धमक बनी रहेगी। नए रोजगार आएंगे और स्त्रियों के लिए संभावनाएं बनेंगी। बडी कंपनियों में उनकी एंट्री होगी।

रिवर्स ब्रेन ड्रेन

फ्रॉस्ट एंड सुलीवन नामक कंपनी ने भविष्य में करियर विकल्पों को लेकर एक सर्वे किया। सर्वे की खास बात है कि आने वाले सालों में जॉब मार्केट में एक नया ट्रेंड दिखेगा, जिसका नाम होगा रिवर्स ब्रेन ड्रेन। इसकी शुरुआत होने लगी है। अब तक हम ब्रेन ड्रेन की बात सुनते आए हैं, लेकिन भविष्य में विदेशों में बसे भारतीय भारत लौटेंगे। सर्वे रिपोर्ट के अनुसार भारत जैसे मुल्कों में सी.ई.ओ. जैसे बडे पदों के लिए भारी संख्या में वेकेंसी रहेंगी। एन.आर.आई. के अलावा विदेशी लोग भी इन पदों को भरने आएंगे। रिपोर्ट के अनुसार, ब्राजील, चीन, रूस, भारत, पोलैंड व फिलीपीन जैसे देशों में करीब 20 लाख बी.पी.ओ., के.पी.ओ. जॉब्स पैदा होंगी। इन देशों में भी विकसित देशों जैसी सुविधाएं, वेतन और प‌र्क्स मिलने लगेंगे। व‌र्ल्ड टॉप ग्लोबल मेगा ट्रेंड्स टु 2020 नामक रिपोर्ट में कहा गया कि आने वाले वर्षो में स्त्री शक्ति का काफी जोर दिखेगा। हर तीन में से एक स्त्री नौकरीपेशा होगी और कुछ देशों में तो वर्ष 2020 तक बोर्ड रूम में 40 फीसदी तक स्त्रियां छा जाएंगी।

2012 हॉट करियर

जॉब पोर्टल्स की मानें तो वर्ष 2012 में नौकरियों के शानदार अवसर हैं।

नौकरी डॉट कॉम के वरिष्ठ वी.पी. और सेल्स हेड वी. सुरेश कहते हैं, 2012 में बी.पी.ओ., के.पी.ओ. सेक्टर्स में तो नौकरियां बढेंगी ही, लेकिन चौंकाने वाले नतीजे मिलेंगे रिटेल इंडस्ट्री में। रिटेल सेक्टर के लिए वर्ष 2012 हॉलमार्क ईयर होगा। विदेशी पूंजी (एफ.डी.आई.) का निवेश बढेगा और बडे ब्रैंड्स की धूम रहेगी। प्रमुख महानगरों के अलावा अब छोटे शहरों-कस्बों में भी बडे ब्रैंड्स की पैठ बनाई जाने लगेगी। सबसे बडी बात यह है कि जो परिदृश्य अभी दिख रहा है, उस हिसाब से आर्थिक मंदी की मार से भारत लगभग अछूता रहेगा। 20-30 की आयु वर्ग के लडके-लडकियां जॉब मार्केट की रेस में सबसे आगे रहेंगे। यह सब संभव होगा कैंपस प्लेसमेंट की सुविधा से। स्त्रियों के लिए बैंकिंग, सेल्स, एच.आर. और मीडिया में भी अवसर बढेंगे।

जॉब पोर्टल्स के अनुसार इस वर्ष आई.टी., हेल्थकेयर, बी.पी.ओ. सेक्टर में शानदार विकास दिखेगा। इसके अलावा आकर्षक वेतन के साथ टॉप डिमांड में रहेंगे मैनेजमेंट, आई.टी., चार्टर्ड अकाउंटेंट, मेडिकल, लीगल प्रोफेशनल्स। मॉडलिंग, स्पो‌र्ट्स व गेम्स में भी संभावनाएं बढेंगी। हिंदी भाषा जानने वालों के लिए भी यह वर्ष शानदार राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मौके लेकर आ रहा है। शिक्षण, लेखन, अनुवाद, द्विभाषिए जैसे करियर इस क्षेत्र में और उभरेंगे।

बेरोजगारी का ग्राफ घटेगा

द नेशनल एसोसिएशन ऑफ सॉफ्टवेयर एंड सर्विसेज कंपनीज यानी नैस्कॉम और मैकिंजे के अनुसार भारतीय सॉफ्टवेयर कंपनीज 25 फीसदी प्रतिवर्ष की रफ्तार से आगे बढ रही हैं। कम से कम अगले पांच वर्षो तक इस रफ्तार में कमी नहीं दिखेगी। आई.टी. सेक्टर की वर्तमान प्रगति को देखते हुए कहा जा सकता है कि इस साल इस सेक्टर को करीब 25 लाख आई.टी. व बी.पी.ओ. एक्सप‌र्ट्स की जरूरत होगी। आई.टी. सेक्टर की नौकरियां ज्यादातर मेट्रो शहरों जैसे मुंबई, दिल्ली, बैंगलोर, चेन्नई और हैदराबाद में हैं, इसलिए इन शहरों की आर्थिक स्थिति में शानदार ग्रोथ देखने को मिलेगी। अभी आई.टी. व बी.पी.ओ. सेक्टर्स भारत के आर्थिक विकास में 50 फीसदी तक की हिस्सेदारी निभा रहे हैं।

इकोनॉमिक सर्वे में कहा गया था कि 11वीं पंचवर्षीय योजना (2007-2012) के अंत तक बेरोजगारी में कमी आएगी। इन पांच वर्षो में लगभग 58 मिलियन नौकरियों की संभावना भारत में है। सर्वे में कहा गया कि वर्ष 2012 में बेरोजगारी 5 फीसदी तक घट सकती है। फूड प्रोसेसिंग, जेम्स-ज्यूलरी, हैंडलूम, टूरिज्म व कंस्ट्रक्शन फील्ड में नौकरियों की संभावना बढेगी।

एक मैगजीन द्वारा कराए गए सर्वे के अनुसार इवेंट मैनेजमेंट, इंटीरियर डेकोरेशन, एयरलाइंस जैसे क्षेत्र युवाओं की पसंद हैं। इस वर्ष ऑरगेनिक फूड इंडस्ट्री, ब्रेन एनेलिसिस, रोबोटिक्स, कंप्यूटेशनल बायोलॉजी, स्पेस टूरिज्म, जेनेटिक काउंसलिंग जैसे क्षेत्रों में भी विस्तार हो सकता है।

स्त्रियों के लिए संभावनाएं यहां हैं

यह अच्छी बात है कि स्त्रियों के लिए रोजगार के अवसर बढ रहे हैं और अब तो कई बडी कंपनियां उनके लिए पार्ट टाइम जॉब या घर बैठे रोजगार की संभावनाएं भी पैदा कर रही हैं। कुछ खास क्षेत्रों में इस वर्ष भी स्त्रियों का वर्चस्व रहेगा-

शिक्षण क्षेत्र : इस वर्ष टीचर्स की जरूरत हर स्तर पर रहेगी। प्राइमरी, नर्सरी से लेकर कॉलेज स्तर तक टीचर्स की आवश्यकता रहेगी। यह स्त्रियों का पसंदीदा क्षेत्र है। इसका कारण है समय और वेतन दोनों उनकी दिनचर्या के अनुकूल होना।

मार्केटिंग और सेल्स: एम.बी.ए. की डिग्री वाली लडकियां मार्केटिंग व सेल्स में बेहतर प्रदर्शन कर सकती हैं। खास बात यह है कि अब बडे शहरों के साथ ही छोटे शहरों में भी इन क्षेत्रों का विकास होगा।

पैरामेडिकल व नर्रि्सग: पिछले कुछ सालों से स्वास्थ्य के प्रति जनता की जागरूकता बढी है। ऐसे में बडी संख्या में इन क्षेत्रों में प्रोफेशनल्स की मांग बढेगी। प्राइवेट सेक्टर में जॉब बढेंगी। विदेशी पूंजी का निवेश होने के बाद यह मांग और बढेगी।

कंप्यूटर साइंस एवं आई.टी. सेक्टर: यूं तो अब रिवर्स ब्रेन ड्रेन की बात की जाने लगी है। लेकिन हाल-फिलहाल एक सर्वे में यह भी कहा गया है कि अभी भी आई.टी. या कंप्यूटर्स के क्षेत्र में यू.एस. और अन्य देशों के मुकाबले भारत में वेतन 1/10 ही है। हालांकि लडकियों की संख्या इन क्षेत्रों में लगातार बढ रही है और आगे यह संख्या और बढने के आसार हैं। कई कंपनियां तो अब उन्हें पार्ट टाइम जॉब या घर पर रहते हुए काम करने की सुविधा प्रदान कर रही हैं। ऐसे में यह फील्ड उनके लिए बेहद संभावनाशील माना जा सकता है।

कॉल सेंटर्स: यह ऐसा क्षेत्र है, जहां अंग्रेजी बोलने के आधार पर अच्छे वेतनमान के साथ नौकरी की काफी संभावनाएं हैं। इस वर्ष भी यह क्षेत्र स्त्रियों के आकर्षण का केंद्र रहेगा।

ब्यूटीशियन: घर पर रह कर काम करने की इच्छा रखने वाली लडकियों की यह पहली चॉइस है। आने वाले समय में ग्रामीण क्षेत्रों में ब्यूटी पार्लर्स का विस्तार होगा। कम पढी-लिखी लडकियों के लिए छह महीने या एक साल के प्रोफेशनल कोर्स के बाद इस क्षेत्र में रोजगार की संभावनाएं हैं। कई बडी कंपनियां ब्यूटी के क्षेत्र में अपनी चेन लेकर आ रही हैं, जाहिर है इस क्षेत्र में अभी और विस्तार होगा।

होटल इंडस्ट्री: सरकारी नीतियों के तहत पर्यटन उद्योग को बढावा दिए जाने के बाद होटल इंडस्ट्री में भी विस्तार के संकेत हैं। हॉस्पिटैलिटी में अधिक संख्या में महिला कर्मियों की जरूरत होगी। विदेशी भाषा जानने वाली लडकियों के लिए तो इस क्षेत्र में कई विकल्प खुलेंगे।

Posted on Jan 26th, 2012
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  नौकरी     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी