लंदन ओलंपिक की सस्टेनेबिलिटी आयुक्त का इस्तीफा

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

बेशक भारत में अभी तक पूरी तरह से डाउ कैमीकल के लंदन ओलंपिक 2012 में प्रायोजन को लेकर गंभीरता से ना सोचा जा रहा हो लेकिन विदेशों में इसकी गूंज जमकर सुनाई दे रही है। इन खेलों की सस्टेनेबिलिटी आयुक्त मेरेडिथ एलेक्जेंडर ने भोपाल गैस त्रासदी के साथ जुड़ी डाउ कैमीकल कंपनी के साथ प्रायोजन करार के विरोध में अपना पद छोड़ दिया है।

भारत में डाउ कैमिकल के लंदन ओलंपिक में प्रायोजन को लेकर धधकने वाली आग अब पूरी दुनिया में महसूस की जाने लगी है। इन खेलों की अहम अधिकारी मेरेडिथ के इस्तीफा देने से लंदन ओलंपिक की आयोजन समिति में खलबली मच गई है। लंदन के मेयर बोरिस जानसन ने ओलंपिक और पैरालंपिक खेलों की लंदन आयोजन समिति [एलओसीओजी] की निगरानी के लिए मेरेडिथ को नियुक्त किया था।

ट्रेड और कारपोरेट प्रमुख मेरेडिथ ने एक धर्मार्थ कार्यक्रम के दौरान सस्टेनेबल लंदन 2012 के लिए बने आयोग से कहा कि एलओसीओजी के डाउ के साथ रिश्ता तोड़ने से इंकार करने के कारण वह इस अवैतनिक पद पर नहीं बनी रह सकती। वह 13 आयुक्तों में शामिल थीं। मेरेडिथ ने कहा, ‘मैं डाउ कैमिकल का बचाव करने में पक्ष नहीं बनना चाहती, जो कंपनी मेरी पीढ़ी के सबसे बदतर कारपोरेट मानव अधिकारों के उल्लंघन में से एक के लिए जिम्मेदार है। यह निराशाजनक है कि 27 साल बाद भी उस क्षेत्र को साफ नहीं किया गया है और हजारों लोग अब भी इससे जूझ रहे हैं।’

मेरेडिथ के इस्तीफे का स्वागत करते हुए एमनेस्टी इंटरनेशनल ने कहा कि लंदन 2012 ओलंपिक के आयोजकों को 70 लाख पाउंड का लुभावना अनुबंध डाउ कैमिकल कंपनी को देने में अपनी गलती स्वीकार करनी चाहिए। डाउ कैमिकल ने अमेरिका स्थित यूनियन कार्बाइड कंपनी [यूसीसी] को खरीदा है जिसकी उस भारतीय कंपनी में अधिकांश हिस्सेदारी थी जो यूसीसी कारखाने की मालिक थी और इसका संचालन करती थी। इसी कारखाने से 1984 में गैस लीक हुई थी जिसमें हजाराें लोग मारे गए थे।

डाउ को प्लास्टिक एक ऐसा घेरा मुहैया कराना है जो खेलों के दौरान लंदन 2012 ओलंपिक स्टेडियम के चारों तरफ बनाया जाएगा। एमनेस्टी इंटरनेशनल की सीमा जोशी ने कहा, ‘इस हाई प्रोफाइल इस्तीफे का मतलब है कि लंदन 2012 खेलों के आयोजक अब डाउ से जुड़ी मानव अधिकारों की चिंताओं की अनदेखी नहीं कर सकते जो कंपनी भोपाल पीड़ितों से जुड़ी अपनी जिम्मेदारी को पूरा करने से इंकार कर चुकी है।

लार्ड सबेस्टियन को को सार्वजनिक तौर पर कहना चाहिए कि डाउ को अनुबंध देते समय कभी भी मानव अधिकारों से जुड़ी चिंताओं पर विचार नहीं किया गया और एलओसीओजी ने गलती की। इस्तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए सांसद और लेबर फ्रेंड्स आफ इंडिया के अध्यक्ष बैरी गार्डिनर ने कहा, ‘यह स्पष्ट है कि एलओसीओजी ने इस साझेदारी करार के लिए डाउ कैमिकल को चुना और उसे चुनने की पूरी प्रक्रिया ढाेंग थी।’

गार्डिनर ने कहा कि मेरेडिथ में खड़े होकर वह चीज कहने का साहस था जो सभी लोगों को पता होनी चाहिए कि डाउ कैमीकल खेलों के लिए सही साझेदार नहीं है।

Posted on Jan 26th, 2012
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी