अमेरिकी रक्षा बजट में अरबों डॉलर की कटौती

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

अफगानिस्तान और इराक में करीब एक दशक के सैन्य अभियान के बाद अमेरिका ने अगले दस साल में अपने रक्षा बजट में करीब 487 अरब डॉलर [करीब 26 खरब रुपये] की कटौती करने का एलान किया है।

इस कटौती के साथ ही रक्षा मंत्रालय पेंटागन ने अगले पांच साल में थल और नौसेना में 92 हजार सैनिकों को कम करने की भी घोषणा कर डाली। यही नहीं कुछ सैन्य अड्डों को बंद भी किया जा सकता है।

अक्टूबर से शुरू हो रहे अगले वित्ता वर्ष के लिए रक्षा मंत्री लियोन पेनेटा ने 525 अरब डॉलर [करीब 26 खरब रुपये] का रक्षा खर्च तय किया है। जबकि मौजूदा वित्ता वर्ष के लिए यह धनराशि करीब 531 अरब डॉलर [करीब 26.3 खरब रुपये] है। इसके अलावा दूसरे देशों में [अधिकांश अफगानिस्तान में] आपात अभियानों के लिए 88.4 अरब डॉलर [करीब 4.3 खरब रुपये] का अतिरिक्त बजट है।

रक्षा बजट की घोषणा करते हुए पेनेटा ने कहा, ‘सेना का आकार जरूर छोटा हो जाएगा, लेकिन यह पहले से अधिक चुस्त, तत्पर और फुर्तीली होगी, जिसे कही भी आसानी से तैनात किया जा सकता है। इस बजट में सेना को तकनीकी रूप से अधिक सक्षम बनाने पर जोर दिया गया है।’

उन्होंने बताया, ‘अगले पांच साल में थलसेना में सैनिकों की संख्या पांच लाख 62 हजार से घटाकर चार लाख 90 हजार करने की योजना है। जबकि नौसैनिकों को एक लाख 82 हजार से घटाकर दो लाख दो हजार कर दिया जाएगा। यह बदलाव वर्ष 2017 तक हो पाएंगे।’

रक्षा मंत्री ने कुछ सैन्य अड्डों और प्रशिक्षण केंद्रों को भी बंद करने का फैसला किया है। उनका कहना है कि इससे आकाश में अमेरिका की ताकत पर कोई असर नहीं पड़ने वाला। उनके मुताबिक अमेरिका नए अत्याधुनिक एफ-35 लड़ाकू विमान खरीदता रहेगा लेकिन छिपकर वार करने वाले लड़ाकू विमानों की खरीद में कुछ कमी आएगी।

उन्होंने कहा कि अमेरिकी सेना अब इराक और अफगानिस्तान से ध्यान हटाकर एशिया समेत राष्ट्रीय हित के अहम क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करेगी। हमारी कोशिश विश्व में सबसे ताकतवर सेना को बनाए रखना है, ताकि वह खोखली सैन्य शक्ति न बन जाए।

Posted on Jan 27th, 2012
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  विदेश     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी