बिहार चुनाव : पहले चरण का प्रचार खत्म

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

पटना।। बिहार विधानसभा चुनाव के पहले चरण में 21 अक्टूबर को होने वाले मतदान के लिए मंगलवार की शाम चुनाव प्रचार का शोर थम गया। अंतिम दिन सभी राजनीतिक दलों ने चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत लगा दी। पहले चरण में राज्य के आठ जिलों की 47 सीटों पर चुनाव होने हैं

बिहार के 243 विधानसभा सीटों के लिए छह चरणों में होने वाले चुनाव के पहले चरण में 47 सीटों के लिए 636 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं। इनमें सतारूढ़ जनता दल (युनाइटेड) के 26 उसकी सहयोगी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के 21, राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के 31, आरजेडी की सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के 16, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीएम) के सात और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के 33 प्रत्याशी चुनावी मैदान में हैं।

कांग्रेस और बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) ने राज्य की सभी विधानसभा सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। प्रथम चरण में मधुबनी, अररिया, सुपौल, किशनगंज, पूर्णिया, कटिहार, सहरसा और मधेपुरा जिले की 47 सीटों पर चुनाव होने हैं।

सभी राजनीतिक दलों ने पहले चरण में होने वाले चुनाव के लिए चुनावी प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी। कांग्रेस ने जहां अध्यक्ष सोनिया गांधी, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, दिल्ली के मुख्यमंत्री शीला दीक्षित, राष्ट्रीय महासचिव राहुल गांधी सहित कई फिल्मी सितारों को चुनाव प्रचार में उतारा, वहीं बीजेपी की तरफ से अध्यक्ष नीतीन गडकरी, पूर्व उपप्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, रविशंकर प्रसाद, अरुण जेटली, स्मृति ईरानी, नवजोत सिंह सिद्घू ने प्रचार किया।

इसके अलावा जद (यू) के लिए अध्यक्ष शरद यादव और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वोट मांगे तो बीएसपी के लिए खुद मायावती मैदान में उतरीं। राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) की ओर से लालू प्रसाद, रघुवंश प्रसाद सिंह, राबड़ी देवी ने चुनावी प्रचार किया तो लोक जनशक्ति पार्टी के लिए रामविलास पासवान ने प्रचार किया और वोट मांगे।

प्रथम चरण के चुनाव में जिन दिग्गजों के भाग्य का फैसला होने वाला है उनमें जद (यू) के मंत्री नरेंद्र प्रसाद यादव, रेणु कुमारी, जेल में बंद पूर्व सांसद पप्पू यादव की पत्नी एवं कांग्रेस की प्रत्याशी रंजीता रंजन, कांग्रेस की बिहार इकाई के अध्यक्ष महबूब अली कैसर, जेल में बंद पूर्व सांसद आनंद मोहन की पत्नी एवं कांग्रेस प्रत्याशी लवली आनंद, नीतीश मिश्रा, सीपीएम से चुनाव लड़ रहे पूर्व विधायक अजीत सरकार के बेटे अमित सरकार प्रमुख हैं।

परिसीमन के बाद पहली बार होने वाले इस चुनाव में सुरक्षा के भी पुख्ता प्रबंध किए गए हैं। चुनाव आयोग ने सुरक्षा को लेकर कई तरह के कदम उठाए हैं। राज्य के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कुमार अंशुमाली ने मंगलवार को बताया कि सभी मतदान केंद्रों पर अर्द्घसैनिक बलों की तैनाती की योजना है।

उन्होंने बताया कि जिन मतदान केंद्रों पद केंद्रीय अर्द्घसैनिक बलों की तैनाती नहीं होगी, वहां अन्य आर्म्ड फोर्स तैनात होगी। बूथों की निगरानी के लिए माइक्रो ऑब्जर्वर होंगे। इसके अलावा 20 प्रतिशत मतदान केंद्रों पर लाइव वेब कॉस्टिंग की व्यवस्था होगी।

इसके जरिए मतदान केंद्र की प्रत्येक गतिविधियों पर निर्वाचन आयोग, निर्वाचन विभाग और संबंधित जिला निर्वाचन पदाधिकारी नजर रखेंगे।

Posted on Oct 19th, 2010
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  बड़ी खबर, हिंदुस्तान     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी