निर्यात को नए बाजारों से मिली खुराक

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

यूरोपीय मुल्कों में छाई सुस्ती अब भी सरकार के लिए चिंता का विषय बनी हुई है। तमाम कोशिशों के बावजूद यूरोप में भारतीय माल की मांग जोर नहीं पकड़ पा रही है। यदि यूरोप के साथ निर्यात के पुराने दिन लौट आएं तो इसकी रफ्तार में जोरदार इजाफा होगा। अमेरिका व लैटिन अमेरिकी बाजारों में तेजी आने से पिछले साल के मुकाबले जनवरी में निर्यात 32.5 प्रतिशत बढ़कर 20.6 अरब डॉलर हो गया। इस दौरान आयात के 28.6 अरब डॉलर पहुंचने से व्यापार घाटा आठ अरब डॉलर रहा।

निर्यात के पारंपरिक बाजार रहे यूरोप से भले ही ऑर्डरों की संख्या में तेजी नहीं आ रही हो, लेकिन नए बाजार निर्यातकों के लिए संजीवनी साबित हो रहे हैं। यही वजह है कि आरंभिक 10 महीनों में निर्यात 29.4 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 184.6 अरब डॉलर पहुंच गया है। इस दौरान आयात 17.6 प्रतिशत बढ़कर 273.6 अरब डॉलर रहा। लिहाजा, व्यापार घाटा 89 अरब डॉलर के इर्द-गिर्द चल रहा है। सितंबर, 2010 में दो वर्षो में पहली बार निर्यात 18.02 अरब डॉलर का हुआ था। तब से निर्यात में तेजी बरकरार है। वाणिज्य सचिव राहुल खुल्लर ने उम्मीद जताई कि निर्यात में जोरदार वृद्धि से अगले महीने तक 200 अरब डॉलर के निर्यात लक्ष्य को पार कर लेंगे। इसके चलते ही अब चालू वित्त वर्ष में निर्यात के 220-225 अरब डॉलर तक पहुंचने की उम्मीद की जा रही है।

वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय ने शनिवार को विदेश व्यापार के ताजा आंकड़े जारी किए। इसके मुताबिक अप्रैल-जनवरी के दौरान रत्‍‌न-आभूषण, इंजीनियरिंग, पेट्रोलियम व आयल प्रॉड्क्टस, मैनमेड फाइबर, सूती धागा, इलेक्ट्रॉनिक्स, फार्मास्युटिकल्स, चमड़ा, प्लास्टिक, कालीन तथा समुद्री उत्पादों के निर्यात में वृद्धि दर्ज हुई है। सरकार का मानना है कि कालीन का निर्यात इस साल समाप्त होने तक पहली बार एक अरब डॉलर तक पहुंच जाएगा। इसी तरह बेशकीमती पत्थरों, सोना, चांदी, उवर्रक, मशीनरी, पेट्रोलियम उत्पादों तथा इलेक्ट्रिकल उपकरणों का आयात भी बढ़ा है।

निर्यातकों के शीर्ष संगठन फेडरेशन ऑफ इंडियन एक्सपो‌र्ट्स ऑर्गेनाइजेशन [फियो] के अध्यक्ष रामू देवड़ा के अनुसार नए नए बाजारों में कदम रखने से निर्यात को बल मिला है। एशियाई बाजारों में निर्यात का प्रदर्शन अच्छा रहा है।

महीना निर्यात

सितंबर, 2010 18.02

अक्टूबर, 2010 18.00 [लगभग]

नवंबर, 2010 18.89

दिसंबर, 2010 22.5

जनवरी, 2011 20.6

Posted on Feb 12th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  व्यापार     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी