भारत लेगा सीख अभ्यास मैच से ?

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

भारतीय क्रिकेट टीम रविवार को चिन्नास्वामी स्टेडियम में आस्ट्रेलिया के खिलाफ होने वाले पहले अभ्यास मैच के जरिए लय हासिल करने की पुरजोर कोशिश करेगी। शनिवार को टीम इडिया का शिविर भी समाप्त हो गया। चार दिनों तक चले इस अभ्यास में कोच गैरी क‌र्स्टन ने चोटिल खिलाड़ियों पर विशेष ध्यान दिया।

टीम इंडिया 2007 विश्व कप के पहले मैच में बाग्लादेश से हारकर शुरुआती राउंड में बाहर हो गई थी। इस निराशाजनक प्रदर्शन की यादें अब भी महेंद्र सिंह धौनी की अगुवाई वाली टीम के दिमाग मंें ताजा होगी इसलिए गत चैंपियन आस्ट्रेलिया के खिलाफ वह अतिरिक्त सतर्कता बरतेगी जो इंग्लैंड को 6-1 से रौंदकर टूर्नामेंट में आत्मविश्वास से ओत-प्रोत होगी। आस्ट्रेलिया के खिलाफ दिन-रात्रि का यह अभ्यास मैच भारत के लिए काफी अहमियत रखता है क्योंकि इसके जरिए उसे अपने कुछ खिलाड़ियों वीरेंद्र सहवाग, गौतम गंभीर और सचिन तेंदुलकर की बल्लेबाजी तिकड़ी की फिटनेस आजमाने का बढि़या मौका मिल जाएगा, जो चोट के बाद टीम में वापसी कर रहे हैं। सहवाग भी कुछ रन बनाने की कोशिश करेंगे क्योंकि दक्षिण अफ्रीका में टेस्ट सीरीज में वे ज्यादा रन नहीं बटोर सके थे। इसके बाद कंधे की चोट के कारण वे वनडे सीरीज भी नहीं खेल पाए थे। तेंदुलकर भी मासपेशियों में खिचाव के कारण दक्षिण अफ्रीका से लौट गए थे और वे भी अपने अंतिम विश्व कप में प्रभावित करने के लिए बेताब होंगे। आस्ट्रेलिया के खिलाफ यह मैच मध्यक्रम बल्लेबाज युवराज सिंह, सुरेश रैना और कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को भी फार्म में वापसी करने का मौका मुहैया कराएगा।

धौनी, युवराज और रैना की तिकड़ी को दक्षिण अफ्रीका अच्छी शुरुआत मिली थी लेकिन वे इसका फायदा नहीं उठा सके थे। इसीलिए वे भी फार्म में आने के लिए बेचैन होंगे। रैना के लिए भी यह मैच काफी अहमियत रखता है जिन्हें अंतिम एकादश में बरकरार रहने के लिए विराट कोहली और यूसुफ पठान से कड़ी प्रतिस्पर्धा मिलेगी। गेंदबाजी के लिहाज से मुनफ पटेल और जहीर खान अपने अच्छे प्रदर्शन को जारी रखने की कोशिश करेंगे जबकि आशीष नेहरा के दिमाग में सिर्फ विकेट हासिल करने की बात चल रही होगी। चोटिल प्रवीण कुमार की जगह अंतिम समय में टीम में शामिल हुए तेज गेंदबाज एस श्रीसंथ के पास भी अंतिम एकादश में जगह बनाने के लिए टीम प्रबंधन को प्रभावित करने का मौका मिल जाएगा। स्पिन विभाग की जिम्मेदारी अनुभवी ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह के सुरक्षित हाथों में होगी लेकिन आर अश्विन और पीयूष चावला के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा होगी।

उधर, आस्ट्रेलियाई टीम एशेज सीरीज गंवाने के बाद इंग्लैंड पर सात मैचों की वनडे सीरीज जीतने से आत्मविश्वास से भरी हुई है। ऐसा पहली बार हुआ है जब आस्ट्रेलियाई टीम विश्व कप में ‘लो प्रोफाइल’ तरीके से आई है जबकि वह पिछली तीन बार खिताब अपने नाम कर चुकी है। ऐसा सिर्फ घरेलू सरजमीं पर मिली एशेज सीरीज में मिली करारी शिकस्त के कारण ही हुआ है। टूर्नामेंट की प्रबल दावेदारों में एक मानी जा रही भारतीय टीम रविवार को आस्ट्रेलिया के खिलाफ अभ्यास मैच को हल्के में नहीं ले सकती क्योंकि कप्तान रिकी पोंटिंग ने पहले ही अपने प्रतिद्वंद्वियों को चेता दिया है कि वे आस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की क्षमता को कमतर आकने की गलती न करें। विशेषकर विश्व कप में जिसमें उनका रिकॉर्ड हमेशा शानदार रहा है। अभ्यास मैच से पहले भारीय टीम के हरफनमौला खिलाड़ी हरभजन सिंह शनिदेव के मंदिर भी गए। उन्होंने वहा जाकर टीम इडिया की जीत की कामना की।

Posted on Feb 12th, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  खेल्र     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी