स्वास्थ्य पर सौंदर्य भारी

Font Size : अ- | अ+ comment-imageComment print-imagePrint

पिछले दिनों आई एक रिसर्च से प्रूव हुआ है कि महिलाएं अपनी हेल्थ से ज्यादा खर्च ब्यूटी पर करती हैं। वे सेहत से जुड़ी छोटी-मोटी परेशानियों को नजरअंदाज कर देती हैं, लेकिन ब्यूटी में उन्हें कोई समझौता नहीं चाहिए। जानते हैं लोग इस रिसर्च को कितना सही मानते हैं :

इसमें कोई दो राय नहीं है कि महिलाएं अपनी ब्यूटी को लेकर बेहद कॉन्शस रहती हैं। लेकिन यह सुनना थोड़ा अजीब लगता है कि इसकी खातिर वे अपनी हेल्थ भी दांव पर लगा देती हैं। पिछले दिनों आई एक रिसर्च में खुलासा हुआ है कि महिलाएं अपनी हेल्थ की बजाय मेकअप पर ज्यादा खर्च करती हैं। रिसर्च में बताया गया है कि महिलाएं एक साल में करीब 16 हजार रुपये हेयर प्रॉडक्ट्स, मेकअप और एंटी एजिंग प्रॉडक्ट्स पर खर्च करती हैं। जबकि हेल्थ विटामिन और जिम मेंबरशिप पर वे सिर्फ 12 हजार रुपये ही खर्च करती हैं।

रिसर्च में यह भी बताया गया है कि महिलाएं अपनी सैलरी का तीन-चौथाई हिस्सा खूबसूरत दिखने पर खर्च करती हैं। वहीं अपनी इनकम का 41 पर्सेंट पैसा वे हेल्दी फूड व सप्लिमेंट्स पर खर्च करती हैं। गौरतलब है कि इस रिसर्च में 18 साल से लेकर 65 साल तक की महिलाओं को शामिल किया गया। यह रिसर्च क्विज बेस्ड थी, जिसमें महिलाओं से लुक्स व हेल्थ से जुड़े सवाल पूछे गए। इस रिसर्च को कराने वाली बेनेडेन हेल्थ केयर सोसायटी के प्रवक्ता ने बताया, ‘रिसर्च के नतीजे बहुत ज्यादा हैरान करने वाले नहीं है। यह सच है कि अधिकतर महिलाएं अपनी ब्यूटी पर बहुत ध्यान देती हैं। यही वजह है कि वे हेल्थ की बजाय मेकअप पर ज्यादा खर्च करना पसंद करती हैं।’

फिजिशियन डॉ. अशोक राजपाल भी इस रिसर्च से पूरी तरह सहमत हैं। वह कहते हैं, ‘यह सही है कि महिलाएं हेल्थ से ज्यादा अपने लुक्स को लेकर पजेसिव हैं। सर्दी-खांसी होने पर बहुत कम ही केसेज में वे डॉक्टर के पास भागेंगी, जबकि फेस पर पिंपल्स होने पर तुरंत ट्रीटमेंट कराने पहुंच जाती हैं।’
जब ब्यूटी एक्सपर्ट्स से यह सवाल किया गया कि महिलाएं अपनी ब्यूटी पर कितना खर्च करती हैं, तो आंकड़े वाकई चौंकाने वाले मिले। ब्यूटी एक्सपर्ट मंजू रावत कहती हैं कि महिलाएं अपनी ब्यूटी पर हर महीने 2500 से लेकर 7000 रुपये तक खर्च करती हैं। इसका मतलब हुआ कि औसतन वे अपनी सैलरी का तीसरा हिस्सा ब्यूटी प्रॉडक्ट्स, लुक्स और ग्रूमिंग पर खर्च करती हैं।

दरअसल, आजकल के लुक्स कॉन्शसनेस के टाइम में महिलाएं खुद पर काफी ध्यान देने लगी हैं। ब्यूटी एक्सपर्ट आशमीन मुंजाल कहती हैं कि मिडल क्लास फैमिली की महिलाओं में थ्रेडिंग, फोरहेड, अपर-लिप्स, फेशियल, पेडीक्योर, मेनिक्योर और वैक्सिंग वगैरह कराना कॉमन है। और अगर कोई भी महिला यह सब कराती है, तो एक महीने का उसका बिल 2000 रुपये के आसपास तो बैठेगा ही।

न सिर्फ महिलाएं , बल्कि ब्यूटी प्रॉडक्ट्स के इस्तेमाल में नई उम्र की लड़कियां भी पीछे नहीं हैं। मिरांडा कॉलेज में थर्ड ईयर की स्टूडेंट ऐश्वर्या डेली यूज के ब्यूटी प्रॉडक्ट्स की लिस्ट कुछ यूं बताती हैं , ‘ मैं बालों पर शैंपू , कंडिशनर और सीरम लगाती हूं। जबकि फेस के लिए फेस वॉश व फेस पैक यूज करती हूं। जब भी स्किन डल लगती है , तो स्क्रब करती हूं। इसके अलावा , मैं रोजाना बॉडी लोशन , आई लाइनर , आइब्रो पेंसिल , लिप ग्लास , परफ्यूम , सन स्क्रीन और नेल पेंट वगैरह इस्तेमाल करती हूं। ‘

वैसे , ब्यूटी प्रॉडक्ट्स की इतनी लंबी लिस्ट बताने के बावजूद ऐश्वर्या यह स्वीकार नहीं करतीं कि वह सारा पैसा अपने लुक्स पर खर्च कर रही हैं। वह कहती हैं कि ये प्रॉडक्ट्स वह रोजाना इस्तेमाल करती हैं। अगर इस हिसाब से चला जाए , तो हर महीने पार्लर व ब्यूटी प्रॉडक्ट्स पर वह 5 हजार रुपये से लेकर 8 हजार रुपये तक खर्च करती हैं।

बहरहाल महिलाओं का यह खर्चा रिसर्च की बात हो सकती है , लेकिन महिलाएं इस पर कंट्रोल करना नहीं चाहतीं और वे इसे बिल्कुल जायज मानती हैं। हालांकि हेल्थ को लेकर वे और अलर्ट होना चाहती हैं। मॉडल व डीजे बरखा कौल कहती हैं , ‘ मैं ग्लैमर फील्ड से जुड़ी हुई हूं। ऐसे में मेरे लिए खूबसूरत दिखना बेहद जरूरी है। लेकिन मैं यह जानकर हैरान हूं और खुश भी कि आम महिलाएं अपने लुक्स को लेकर इतनी अवेयर हो गई हैं। अगर वे हेल्थ को लेकर भी इतनी ही कॉन्शस हो जाएं , तो सोने पर सुहागा वाली बात होगी !’

अनु चौहान॥
NBT
Posted on Mar 2nd, 2011
SocialTwist Tell-a-Friend
Posted in :  ब्यूटी     
Subscribe by Email

Leave a comment

Type Comments in Indian languages (Press Ctrl+g to toggle between English and Hindi OR just Click on the letter)


विदेश

राज्य

महिला

अपराध

ब्यूटी